Hardware & Networking – Generation Of Computers

  1. Generation Of Computers in Hindi
  2. Types of computer Generation in Hindi
  3. Computer Generation in Hindi

Generation Of Computers

Computer के विकास को पांच पीड़ियो में बाटा गया है |

  • First Generation
  • Second Generation
  • Third Generation
  • Fourth Generation
  • Fifth Generation

First Generation

सन 1946 से 1956 तक के विकसित computer को First Generation के रूप में मान्यता प्राप्त हुयी है | इस पीड़ी के computer में डायोड वाल्ब वैक्यूम थुब का प्रयोग किया गया है |

इस डायोड वाल्ब नमक वैक्यूम का अविष्कार Sir Embrose Flaming ने सन 1904 में किया था | इन्हें thermonic बल्ब का भी नाम दिया गया था |

इनमे दो एलेक्ट्रोड़ कैथोड एवं एनोड थे | इसलिए इन्हें डायोड कहा गया | First electronic computer First Generation में सन 1941 में बनाया गया |

Second Generation

सन 1956 से 1964 तक के विकसित हुए computer को Second Generation computer कहा जाता है | सन 1948 में Bardden Brattain और Shockley ने transistor का अविष्कार करके electronic technology के क्षेत्र में एक नयी क्रांति सी ला दी |

इस पीड़ी के computer में डायोड वाल्ब के स्थान पर transistor का प्रयोग किया जाने लगा | सिलिकॉन युक्त transistor बनाने के बाद computer ही क्या सभी electronic machine में डायोड वाल्ब का प्रयोग अत्यंत कम हो गया | इस Generation के प्रमुख computer निचे दिए जा रहे है |

  1. युनिबैक – 3
  2. हनिबैल 400
  3. CDC 1604 इत्यादि

Third Generation

सन 1964 से 1970 तक के computer को Third Generation में रखा गया है | इस पीड़ी के computer में transistor के स्थान पर Integrated Circuits ( IC ) का प्रयोग किया गया |

एक IC में resistance transistor और कैपीसिटर तीनो को ही संहित कर लिया गया | इस कारण computer का आकर पहले की पीड़ियो के अपेक्षा काफी छोटा हो गया |

अर्थात जहा पहले computer के निर्माण के लिए एक कमरे की आवस्यकता होती थी अब एक अलमारी के बराबर स्थान में ही computer स्थापना किया जा सकता था |

इस पीड़ी के computer में video display unit का भी प्रयोग होने लगा | Third Generation के प्रमुख computer IBM का system 360 M. DFC का ( Digital Equipment Corporation ) programmable data processing -1 ( PDP – 1 ) और univac 1108 और 9000 इत्यादि थे |

Fourth Generation

सन 1970 से 1985 तक के computer को Fourth Generation में रखा गया है | LIC ( Large Scale Integration ) chip और फिर 1975 में VLI ( Very Large Integration ) chip के निर्माण से पूरी दुनिया में control processing unit का एक ही chip पर आना संभव हो सका |

इन चिपों को micro processor कहा जाता था | और जिन computer में micro processors का प्रयोग किया गया उन्हें micro computer कहा जाता था |

Fifth Generation

सन 1985 के computer को Fifth Generation में रखा गया | इन computer में मानव सद्रिस्य गुणों को समाहित करने का प्रयास किया गया |

जापानी वैज्ञानिको ने इन computers के विकास को अपनी योजना का नाम Knowledge Information processing ( KIPS ) रखा |

इस Generation के computer अभी विकास के स्थिति में ही है | इन computer में Artificial Intelligence का उपयोग करने की योजना है | इनमे voice recognition एवं image control के कार्य अत्यंत दक्षता और तीव्र गति से किया जाना संभव हो सका |