Hardware & Networking – Microsoft Windows

  • What is Microsoft Windows
  • Microsoft Windows in Hindi
  • Hardware Networking Windows

Introduction of Microsoft Windows

प्रत्येक computer के लिए एक operating system की आवश्यकता होती है | संक्षेप में operating system निर्देशों का एक ऐसा group है | जो computer के hardware एवं software के मध्य सम्बन्ध स्थापित करता है |

Input device द्वारा दिए गए निर्देशों को computer के समझने योग्य बनता है और प्राप्त परिणामो को वापस सन्देश के रूप में monitor screen एवं printer या अन्य output device पर प्रस्तुत करता है |

Microsoft Corporation ने MS – DOS operating system सन 1981 में तैयार किया और तब से लेकर अब तक operating system में निरंतर शोध किया जा रहा है |

आज भी Microsoft Corporation operating system में निरंतर शोध एवं विकास में लगा है | और अपना new operating system Windows 10 को विकसित करने में लगा है |

परन्तु व्यक्तिगत प्रयोग हेतु Windows 10 वर्तमान में उपयोगी सिद्ध हुआ | और ( Bill Gates ) को windows का जनक कहा जाता है |

Windows Software की सुविधाए

1 – किसी भी software को Alt के साथ funtion key F4 press करके बंद किया जाता है |

2 – एक ही साथ कई software open किये जा सकते है |

3 – किसी software के matter को दुसरे software में cut, copy एवं paste की सहायता से transfer किया जा सकता है |

4 – Windows के एक software से दुसरे software पर जाने के लिए Alt key के साथ TAB key press करते है |

Windows Explorer में short key का प्रयोग

F3find all key चलाने के लिए
F5Windows को refresh करने के लिए
F2किसी भी file को rename करने के लिए
Ctrl + AWindows के सभी file को select करने के लिए
Alt + Escखुले हुए application program को कार्यशील करने के लिए
Alt + F4खुले हुए application program को बंद करने के लिए
Alt + Tabखुले हुए अनेक program में वर्तमान program से किसी अन्य program में जाने के लिए
Alt + Shift + Tabखुले हुए अनेक program में वर्तमान program से किसी अन्य program में विपरीत क्रम में जाने के लिए
Alt + Space barकिसी windows के menu को खोलने के लिए
Alt + PrtScखुली हुयी क्रियाशील windows को clipboard पर copy करने के लिए
Ctrl + Xकिसी file को cut करने के लिए
Ctrl + Cकिसी file को copy करने के लिए
Ctrl + Vcut या copy file को paste करने के लिए
Ctrl + Zdelete हुए data को पुनः प्राप्त करने के लिए ( वह file हो सकता है या फिर एक character )
Ctrl + F4किसी ऐसे program में जिसमे अनेक windows खोली जा सकती है | उसमे कार्यशील windows को बंद करने के लिए
Ctrl + Escstart menu को open करने के लिए
F10 या Altmenu बार को कार्यशील करने के लिए

Translator

Assembly language and high level language को low level language में बदलने के लिए translator का use किया जाता है | और translator तीन प्रकार के होते है |

  1. Inter Preter
  2. Compiler
  3. Assembler

1 – Inter Preter

Inter Preter High level language को low level language में count करता है | यह program के एक लाइन को पड़ कर उसे low level language में convert करता है | अर्थात line by line पढ़कर low level language में convert करता है |

2 – Compiler

यह भी high level language को low level language में convert करता है | किन्तु program के सभी lines को एक बार read करके उसे low level language में convert करता है |

3 – Assembler

Assembly language में लिखे गए program को low level language में convert करता है |